आप यहाँ हैं
होम > Entertainment

सोशल मीडिया पर छायी बॉलीवुड एक्टर टाइगर श्रॉफ और दिशा पाटनी ये तस्वीर…

बॉलीवुड एक्टर टाइगर श्रॉफ और दिशा पाटनी की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर छाई हुई है. इस तस्वीर में दोनों स्विमिंग पूल में नजर आ रहे हैं और दोनों की पीठ नजर आ रही हैं। इस तस्वीर को शेयर करते हुए टाइगर ने बताया कि वह बागी-2 की शूटिंग का

INDvsAUS: पहले वनडे में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 26 रन से हराया, सीरीज में 1-0 से आगे

भारत ने ऑस्ट्रेलिया को चेन्नई में खेले गए पहले वनडे में 26 रन से मात देकर पांच मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है। चेपॉक में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी टीम इंडिया ने निर्धारित 50 ओवर 7 विकेट पर 281 रन का स्कोर खड़ा किया।

एक दूजे के लिए…..भाग-3

रश्मि सो रही होती हैं। तभी फोन बजता हैं। वो सोए हुए में ही फोन उठा लेती हैं। हैलो कौन? मैं हूँ यार रीना। इतनी जल्दी भूल गई क्या? अरे नहीं वो सो हुई थी तो ध्यान नहीं दिया। तू बता कैसी हैं? मैं ठीक हूँ। बस रिजल्ट का इंतजार हैं। हाँ, यार मुझे भी।

एक दूजे के लिए…..भाग-2

फिर वो पीछे की तरफ मुड़ती हैं देखने के लिए। रश्मि उठो सुबह हो गई हैं। मम्मी आप? हाँ, मैं क्यों क्या हुई। देख कितने बज चुके हैं। अब वो सपनों की दुनिया से निकलकर असली जिंदगी में आ चुकी थी। मम्मी सोने दो ना! अब तो स्कूल भी खत्म

एक दूजे के लिए

शहर की दौड़ती भागती जिंदगी से दूर कहीं छोटे से शहर में सपनों के आगोश में नींद के रथ पर सवार रश्मि अपनी ही दुनिया में खोई हुई हैं, बिना कल का जाने की भविष्य के गर्भ में आखिर क्या लिखा हैं? मन तक को साफ कर देने वाली

मेरे चेहरे पर लटें लहराई

अचानक पढ़ते समय मेरे चेहरे पर लटें लहराई जैसे बिन बादल के बरसात झमाझम आई हवा का साथ पाते ही आकाश को छूने की तमन्ना कभी इधर कमर बलखाती कभी उधर नैन-मटका करती अचानक ठिठोली की आवाज़ गूँजी मेरे कानों पर मौन होकर सुनने लगी उनकी कहीं बातों पर लटों को काफी गुरूर था अपने इठलाने पर केश से लड़ने को आतुर थी

जब तू साथ हो.

उम्र बीत जाए हर पल गुज़र जाए रैना बीती जाए जब तू साथ हो जब भी पल कोई उदास हो खुशियां भी ना साथ हो ना रहे उनका ग़म जब तू साथ हो हाथों की लकीरों में जब तू ना रहे मेरी फूटी तक़दीरों में भी जब तेरा नाम ना हो ना रहे उनका ग़म जब तू साथ हो. तुम रहना साथ मेरे हर पल,

कुछ पल ठहर जाओ…!!!

कुछ पल ठहर जाओ नींदों की पहलू में सपना बुन देखूं तुम्हें बंद आंखों की पलकों तले हवाएं मंद-मंद चलेंगी तारों सी सजी रात में फूलों की खुश्बू बिखेरे बातें होंगी इन मुलाकातों में चांद बैठ छत की मुंडेर पर बिखेरेगा चांदनी सुहानी रातों में जुगनू गाएंगे गीत प्यार के ठंडे-मीठे सौगातों में आना प्रिए तुम नींदों वाली ख्वाबों में... (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); लेखक:

फकीरों में सहजादा दिल है मेरा…!!

कुछ पल को लगता है यूँ तुम करीब हो मेरे फिर दूसरे ही पल तुम जुदा क्यों हो? रहते हो तुम दिल के करीब मेरे पर लगता है ये क्यों... तुम खफा-खफा हो. कभी सपनो में आकर नींदों को उड़ा जाते हो कभी हवाओं को कहते हो मुझे सताए कभी जब आती है याद तेरी आखें

हर कहानी कुछ अलग होती हैं….!!

हर कहानी कुछ अलग होती हैं कोई नई तो कोई पुरानी होती हैं कोई खास तो किसी का अहसास होती हैं दादी की पंचतंत्र रहस्यमय कहानियाँ होती हैं कई शूरवीरों की वीरता गाथा होती हैं कई दो दिलों की मुहब्बत की दास्ताँ होती हैं कोई खुशी से लिपटी हुई होती हैं तो कोई गमों में सिमटी हुई

Top